ओरल सेक्स के जोखिम - Oral Sex Risks in Hindi
गर्भावस्था

ओरल सेक्स के जोखिम - Oral Sex Risks in Hindi

Health Raftaar

ओरल सेक्स, सेक्स लाइफ में सुधार लाने, ऑर्गेज्म पाने या अपने साथी के प्रति अधिक प्यार दिखाने का एक नया और रोमांचक तरीका माना जाता है। साथ ही इसे प्रेगनेंसी और एसटीडी बीमारियों से बचने के तरीके के रूप में भी देखा जाता है लेकिन सेक्स के अन्य रूपों की तरह इसके भी कई जोखिम (Oral Sex Risks) हैं। 

एसटीआई (Sexually Transmitted Infections), गले के इंफेक्शन और यहां तक की मुंह या गले के कैंसर को भी ओरल सेक्स के जोखिमों में से एक गिना जाता है। आइए जानें मुखमैथुन या ओरल सेक्स से होने जोखिमों (Risks of Oral Sex) के बारे में: 

ओरल कैंसर - Oral Cancer

कई विशेषज्ञ मानते हैं कि ओरल सेक्स के कारण गले और मुंह का कैंसर भी होता है। ओरल सेक्स से शरीर में पैपीलोमा (Human Papilloma Virus or HPV) नामक वायरस पहुंच जाता है जो मुंह या गले के कैंसर का कारण बन जाता है। 
इसके अलावा टोंसिल और जीभ के नीचे के हिस्से में कैंसर की वजह भी एचपीवी संक्रमण को ही माना जाता है। 

इंफेक्शन का रिस्क - Risk of Infection

ओरल सेक्स के दौरान अगर सफाई का ध्यान ना रखा जाए तो मुमकिन है कि इंफेक्शन हो जाए। खासतौर पर मासिक धर्म के दौरान महिला साथी के साथ ओरल सेक्स करने के गंभीर परिणाम हो सकते हैं। इसी तरह ओरल सेक्स के दौरान अगर मुंह में ही डिस्चार्ज हो जाए तो इससे गले में इंफेक्शन या यीस्ट लगने की समस्या हो सकती है। एक से अधिक सेक्स पार्टनर्स के साथ ओरल सेक्स करने से भी इंफेक्शीन होने की संभावना काफी बढ़ जाती है।

एचआईवी संक्रमण या एड्स का खतरा - Risk of HIV

अगर आप सोचते हैं कि ओरल सेक्स से एचआईवी संक्रमण का खतरा पूरी तरह खत्म हो जाता है तो आप गलत हैं। इससे एचआईवी संक्रमण को काफी हद तक रोका जा सकता है लेकिन कुछ प्रतिशत चांस रहता है कि संक्रमण हो जाए। 
एक महिला के साथ ओरल सेक्स करते समय उसकी योनि से निकलने वाले पदार्थ या रक्त के मुंह में जाने के चांस होते हैं। इसके अलावा मुंह के घाव, छाले या मसूड़े आदि से निकलने वाला खून अगर महिला के योनि के किसी कट या घाव के संपर्क में आए तो भी एचआईवी का खतरा बन जाता है। 

ओरल से होने वाली बीमारियां - Disease Causes Oral Sex

ओरल सेक्स के कारण होने वाली बीमारियां हैं: 

  • सिफ्लिस (Syphilis)
  • क्लैमिडिया (Chlamydia) 
  • सूजाक (Gonorrhea)
  • मुंह के छाले (Mouth Ulcers)

इन बीमारियों का इलाज तो मुमकिन है लेकिन इनमें से कुछ के लक्षण जल्दी पता नहीं चलते हैं। 

उपरोक्त रिस्क के साथ यह जानना भी आवश्यक है कि सिर्फ थोड़ी सी सावधानी अपनाकर इन परेशानियों से बचा जा सकता है। मेडिकल साइंस के अनुसार ओरल सेक्स पारंपरिक सेक्स के मुकाबले बेहद सुरक्षित और एसटीडी रोगों को रोकने में काफी हद तक प्रभावी है। बस जरूरत है तो जोश में होश संभालकर रखने की। जानें कैसे करें सेफ ओरल सेक्स

Raftaar
women.raftaar.in