मॉनसून के मौसम में हुई हैं प्रेग्नेंट, तो इन विशेष बातों का रखें ध्यान

मॉनसून के मौसम में हुई हैं प्रेग्नेंट, तो इन विशेष बातों का रखें ध्यान

मॉनसून गर्मी, उमस, गंदगी से राहत दिलाता है और बारिश होने से शहर एकदम हरभरा दिखाई देने लगता है। तो ऐसे में आप घर में रहकर चाय और पकोड़ों का मजा लेते हैं, लेकिन गर्भवती महिलायें थोड़ा असहज महसूस कर सकती हैं खासकर मॉनसून के महीने में। मौसम को सुहाना करने के अलावा ये महीना कई मच्छरों, वायरल और बैक्टीरियल बीमारियों को अपने साथ लेकर आता है जैसे डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया आदि। ये बीमारियां गर्भवती महिलाओं के लिए और गंभीर बन सकती है क्योंकि ऐसे में उनकी इम्युनिटी का स्तर कम हो जाता है, समय से पहले डिलीवरी और समय से पहले बच्चे का जन्म होना जैसे समस्या जुडी होती हैं।

तो चलिए आपको इस लेख में हम बताते हैं कि अगर आप गर्भवती हैं तो इस मौसम का बिना डरे कैसे मजा ले सकती हैं –

खुद को हाइड्रेट रखें -

बारिश के मौसम में हाइड्रेट रहना बेहद आवश्यक है। तापमान में कमी आने से आपको प्यास भी कम लगती है, लेकिन अगर आप प्रेग्नेंसी में उमस, सिरदर्द और थकान से छुटकारा पाना चाहती हैं जो कि शरीर में पानी की कमी की वजह से होता है , तो ऐसे में हाइड्रेट रहना बेहद जरूरी है। गर्भवास्था में आप उबला और ठंडा या स्वच्छ पानी पी सकती हैं। खुद को हाइड्रेट रखने के लिए अन्य विकल्प है नारियल पानी, घर पर नींबू पानी, छाछ या बोतल बंद जूस।

डाइट –

प्रेग्नेंसी में ख़ास प्रकार के खाने की तलब लग्न कोई अनचाही बात नहीं है। अच्छा होगा अगर आप प्रेग्नेंसी के दौरान अपने सलाद में कच्चे खाने को शामिल न करें, कच्चे मीट को बिलकुल न खाएं, अंडा और सी फ़ूड भी प्रेग्नेंसी के दौरान नहीं खाना चाहिए। नुक्कड़ से आलू चाट या गोल गप्पे खाने की चाह को बाद के लिए बचाकर रखें। हरी पत्तेदार सब्जियां जैसे पालक और पत्ता गोभी को अच्छे से पानी से साफ करके तभी इनका सेवन करें क्योंकि इनमें बेहद धूल मिट्टी देखी जाती है। फाइबर और प्रोटीन से भरपूर आहार खाएं, इनसे भरपूर आहार खाने से आपके साथ-साथ आपका बच्चा भी स्वस्थ रहेगा।

मच्छर से मुक्ति -

घर में या गार्डन में पानी जमकर न रखें, इनसे ही सबसे पहले मच्छर बढ़ते हैं और मच्छर बढ़ने से मलेरिया और डेंगू की भी संभावनाएं बढ़ जाती हैं। अपने घर को मॉस्किटो प्रूफ बनाएं। मच्छरों से बचने के लिए आप मच्छरों का नेट लगा सकते हैं, रेपलेंट्स, मोस्किटों दवाएं भी आती हैं जिन्हें आप पूरी रात चलाकर सो सकते हैं। ध्यान रहे गर्भवती महिलायें इस तरह की दवाओं को खुद से थोड़ा दूर रखें।

कपड़े और फुटवियर -

मच्छरों से बचने के लिए पूरी बाजू के कपड़े पहनें। यह आपको मच्छरों से बचाने के साथ-साथ उमस से भी बचाएंगे। सिंथेटिक फेब्रिक और कसे हुए कपड़ों से बचें इनसे आपको डिस्कम्फर्ट और रैशेस नहीं होंगे। इस मौसम का मजा लेने के लिए अगर आप बाहर जारी हैं तो कम्फर्टेबल फुटवियर पहनें और ग्रिप उनकी अच्छी होनी जिससे फिसलन वाली जगह पर किसी प्रकार की दुर्घटना न हो।

Related Stories

No stories found.