गर्भावस्‍था में 4-6 महीनों के दौरान व्यायाम - Exercise during 7-9 months of pregnancy in Hindi
गर्भावस्था

गर्भावस्‍था में 4-6 महीनों के दौरान व्यायाम - Exercise during 7-9 months of pregnancy in Hindi

Health Raftaar

गर्भावस्था का दूसरा चरण यानि की चौथे महीने से छठे महीने तक का चरण गर्भवती महिला के लिए सबसे आरामदायक होता है। इस महीने तक आते-आते मॉर्निंग सिकनेस खत्म हो जाती है और गर्भवती महिला खुद को ज्यादा रिलैक्स महसूस करती है।

गर्भावस्था के दूसरे चरण में व्यायाम करने से एनर्जी लेवल बढ़ता है। इसके साथ ही व्यायाम करने से शरीर प्रसव पीड़ा सहने योग्य बनता है। दूसरे चरण में हफ्ते में तीन दिन वेट वर्क आउट और तीन दिन कार्डियो की जा सकती है। इसके साथ ही निम्न व्यायाम भी लाभकारी होंगे:-

गर्भावस्था में व्यायाम: दूसरे तीन (4-6) महीनों के दौरान - Exercise in Pregnancy: Second Trimester

1- वेट ट्रेनिंग - Weight Training

गर्भधारण के दूसरे चरण में रक्त का वॉल्यूम बढ़ जाता है। आपका प्लासेंटा और बच्चा दोनों ग्रोथ करते हैं ऐसे में वेट ट्रेनिंग बहुत फायदेमंद है। लेकिन इसे कभी खड़े होकर ना करें। बैठकर हल्के वेट को उठाएं। इसके लिए पानी की बोतल लेकर भी वेट ट्रेनिंग की जा सकती हैं।

2- जॉगिंग और टहलना - Jogging and Walking

टहलने या हल्की जॉगिंग से सांस को बेहतर खींचने की ताकत बढ़ती है। मांसपेशियां मजबूत होती हैं और शरीर में ऑक्सीजन का संचार बढ़ता है।

3- तैराकी - Swimming

दूसरे चरण में भी तैराकी के बहुत फायदे हैं। आपकी क्षमता बढ़ती है और बॉडी ज्यादा लचीली और स्ट्रचेबल बनती है। जिससे बच्चे को जन्म देते समय कम परेशानी आती है।

4- योगा - Yoga

दूसरे चरण में योगा जारी रखें। पेट के बाल लेटने वाले या पेट पर दबाव पड़ने वाले योगा ना करे। ऐसे योगा करें जिनसे आपके शरीर ही नहीं मन को भी शांति मिले।

5- साइकिलिंग - Indoor Cycling

इंडोर साइकिलिंग करें। इससे पेट की मसल मजबूत होंगी। लेकिन ध्यान रहे कि पेट पर अनावश्यक दबाव ना पड़े।

6- घर के काम - Home Cleaning Work

घर में झाड़ू, पोछा, बागान को ठीक करना आदि भी व्यायाम से कम नहीं। कुछ दिन बाई को आराम देकर यह काम खुद करें।

व्यायाम के लाभ - Benefits from Exercise during Pregnancy in Hindi

  • व्यायाम करने से गर्भावस्था के दौरान होने वाली थकावट नहीं होगी। आप ज्यादा एनर्जेटिक महसूस करेंगी।
  • कब्ज़ से राहत मिलेगी।
  • बच्चे के प्लेसेंटा को बढ़ने में मदद मिलेगी।
  • शरीर फिजिकल चेंज के लिए तैयार होगा।
  • शरीर के फैट का बेहतर उपयोग होगा जिससे शरीर को ज्यादा ऊर्जा मिलेगी।

ये व्यायाम ना करें: दूसरे तीन (0-3) महीनों के दौरान - Exercise to Avoid in Pregnancy: Second Trimester

  • हाई एरोबिक्स
  • क्रन्चेस
  • प्लांक्स
  • ज्यादा दबाव या शक्ति लगने वाले व्यायाम

तुरंत चिकित्सक को दिखाएं यदि -

  • सर में दर्द हो
  • डिहाइड्रेशन या ओवरहीटिंग हो
  • पेट में दर्द हो
  • किसी भी तरह का कोई वेजाइना डिस्चार्ज हो
  • भ्रूण में मूवमेंट ना हो रही हो

व्यायाम के साथ - Tips for Exercise in Pregnancy in Hindi

  • हाइड्रेट होती रहें। बीच-बीच में 10 से 15 मिनट के अंतराल पर पानी पीती रहें।
  • व्यायाम से 45 मिनट पहले हल्का नाश्ता जैसे केला या ड्राई फ्रूट खाएं।
  • आरामदायक कपड़े पहनें।
  • व्यायाम तब तक करे जब तक आप आरामदायक महसूस करें।
  • शरीर की क्षमता के अनुसार व्यायाम का चुनाव और समय निर्धारित करें। जबरदस्ती शरीर पर दबाव ना बनाएं।
Raftaar
women.raftaar.in