हेपेटाइटिस - Hepatitis in Hindi
रोग जानें

हेपेटाइटिस - Hepatitis in Hindi

Health Raftaar

लिवर शरीर का एक महत्त्वपूर्ण अंग है। वह भोजन पचाने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता है। शरीर में होने वाली चयापचय क्रियाओं (Metabolic Process) में लिवर (Liver) विशेष सहायता करता है।

हैपेटाइटिस क्या है - About Hepatitis in Hindi

हैपेटाइटिस लिवर में होने वाली बीमारी है और पीलिया इसका एक लक्षण है। खून में जब बिलीरुबिन (Bilurubin) की मात्रा बढ़ जाती है, तब पीलिया होता है। खून में बिलीरुबिन का स्तर 1 प्रतिशत या इससे कम होता है, लेकिन जब इसकी मात्रा 2.5 प्रतिशत से ऊपर हो जाती है, तब लिवर कमजोर हो जाता है।

हैपेटाइटिस के लक्षण - Symptoms of Hepatitis in Hindi

इसके प्रमुख लक्षणों में लिवर के ऊतकों (Muscles) की कोशिकाओं का सूज जाना है, जब रोग अन्य लक्षणों के साथ-साथ लिवर से हानिकारक पदार्थों के निष्कासन, रक्त की संरचना के नियंत्रण और पाचन-सहायक पित्त (Digestiv Bile) के निर्माण में लिवर के कार्यों में बाधा डालता है तो व्यक्ति विशेष की तबीयत ख़राब हो जाती है।

हैपेटाइटिस अतिपाती (Acute) हो सकता है, यदि यह छः महीने से कम समय में ठीक हो जाये। अधिक समय तक जारी रहने पर चिरकालिक (Chronic) हो जाता है और बढ़ने पर प्राणघातक भी हो सकता है।

हैपेटाइटिस का वायरस छह प्रकार का होता है : 

  • टाईप ए वायरस (Tyrpe A Virus) जो दूषित पानी व खाने से फैलता है।
  • टाईप बी वायरस (Tyrpe B Virus) इंजेक्शन, संक्रमित खून दिए जाने या यौन सम्पर्क से फैलता है। ठीक वैसे ही जैसे एड्स फैलता है।
  • टाईप सी वायरस (Tyrpe C Virus) भी इंजेक्शन, रक्त दिए जाने या यौन सम्पर्क से फैलता है।
  • टाईप डी (Tyrpe D Virus) वायरस अपनी संख्या बढ़ाने व छूत फैलाने के लिए टाईप बी वायरस पर निर्भर करता है। इसलिए इसका फैलाव टाईप बी वायरस के साथ ही होता है। और इसके फैलने कातरीका भी टाईप बी वायरस के तरीके जैसा ही होता है।
  • टाईप ई (Tyrpe E Virus) वायरस पीने के पानी के पाखाने से दूषित हो जाने से फैलता है।
  • टाईप जी वायरस, टाईप सी वायरस की तरह खून से फैलता है।

गर्भावस्था में हैपेटाइटिस के जोखिम करक - Risk Factors of Hepatitis in Pregnancy in Hindi

गर्भावस्था के दौरान हैपेटाईटिस, खासकर हैपेटाइटिस बी काफी खतरनाक होता है। इससे बच्चे के विकास पर असर तो पड़ता ही है परन्तु इससे उससे पहले ही माँ की मौत हो जाती है। ऐसे में गर्भपात की जरूरत भी पड़ सकती है।

हैपेटाइटिस के अन्य लक्षण - Hepatitis Other Symptoms in Hindi

  • अत्यधिक कमजोरी व थकान
  • आंख, जीभ, मूत्र व त्वचा में पीलापन
  • चिड़चिड़ापन
  • पाचन समस्याओं जैसे उल्टी
  • भूख में कमी

हैपेटाइटिस के कारण - Hepatitis Causes in Hindi

हैपेटाइटिस को सामान्यत: पानी से होनी वाली बीमारी माना जाता है जो पूरी तरह गलत है। डॉक्टरों के अनुसार निम्न कारणों से भी हैपेटाइटिस हो सकता है: 

  • आनुवांशिक,
  • कुपोषण,
  • शराब,
  • फैटी लीवर

हैपेटाइटिस का इलाज - Hepatitis Treatment in Hindi

हैपेटाइटिस से बचाव के लिए साफ-सफाई बेहद आवश्यक है। खाने और पीने में हमेशा साफ चीजों के प्रयोग से इससे बचा जा सकता है। हैपेटाइटिस से बचाव के अन्य उपाय निम्न हैं: 

  • लिवर को स्वस्थ रखने के लिए साफ-सुथरा भोजन और साफ पानी जरूरी है।
  • बाहर का खाना खाने से बचें, लेकिन खाना भी पड़े तो साफ-सफाई देखकर ही खाएं।
  • हैपेटाइटिस ए (Hepatitis A Vaccine) का टीका जरूर लगवाना चाहिए।
  • किसी दूसरे की सुई, रेजर और टूथब्रश इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।
  • रक्त चढ़ाने पर इस बात का विशेष ध्यान रखें कि नई सुई हो और रक्त संक्रमित न हो।
  • अधिक तेल, घी, हल्दी और मिर्च मसाले का भोजन न करें।
  • हरी पत्तीदार सब्जियां खाएं, मौसमी और गन्ने का रस पिएं।
  • नारियल पानी, चावल, दही या छाछ, उबले आलू और छैने वाला रसगुल्ला खाएं।