बाइपोलर डिसआर्डर - Bipolar Disorder in Hindi

बाइपोलर डिसआर्डर - Bipolar Disorder in Hindi

बाइपोलरडिसऑर्डर, जिसे आमतौर पर गहरा अवसाद (manic depression) कहते हैं, यह एक ऐसी स्थति है जिसमें कई तरह के मूड में बदलाव होते हैं, इसमें भावोत्तेजना का उच्च स्तर (Mania या Hypomania) तथा निम्न स्तर (Depression) शामिल होता है।

जब आप उदास हो जाते हैं, तो आप दुख या निराशा महसूस कर सकते हैं और अधिकांश गतिविधियों से रुचि खो सकते हैं। जब आपका मूड उन्माद या हाइपोमेनिया (उन्माद की तुलना में कम) में बदल जाता है, तो आप उत्साह, ऊर्जा से भरा या असामान्य रूप से चिड़चिड़ा महसूस कर सकते हैं। ये मिजाज नींद, ऊर्जा, गतिविधि, निर्णय, व्यवहार और स्पष्ट रूप से सोचने की क्षमता को प्रभावित कर सकते हैं।

मूड स्विंग्स के एपिसोड साल में शायद ही कभी या कई बार देखने को मिल सकते हैं। जबकि अधिकांश लोग एपिसोड के बीच कुछ भावनात्मक लक्षणों का अनुभव करेंगे, कुछ को कोई अनुभव महसूस नहीं होता। हालांकि बाइपोलर डिसऑर्डर जीवनभर चलने वाली स्थिति है, आप अपने मूड स्विंग्स को और अन्य लक्षणों कुछ ट्रीटमेंट की मदद से नियंत्रित कर सकते हैं। कई मामलों में, बाइपोलर डिसऑर्डर का इलाज दवाइयों और मनोवैज्ञानिक परामर्श (मनोचिकित्सा) के साथ किया जाता है।

बाइपोलर डिसऑर्डर के लक्षण - Bipolar Disorder Symptoms in Hindi

तीन मुख्य लक्षण हैं जो बाइपोलर डिसऑर्डर के साथ हो सकते हैं : उन्माद, हाइपोमेनिया और अवसाद।

मेनिया का अनुभव करते हुए, जिस व्यक्ति को बाइपोलर डिसऑर्डर है भावनात्मक उत्तेजना का अनुभव कर सकता है। वे उत्साहित, आवेगी, उत्साह और ऊर्जा से भरे हुए महसूस कर सकते हैं। मेनिया एपिसोड के दौरान, वे कई व्यवाहर से गुजर सकते हैं जैसे :

  • खर्च करना

  • असुरक्षित यौन संबंध

  • नशीली दवाओं के प्रयोग

हाइपोमेनिया आमतौर पर बाइपोलर 2 डिसऑर्डर से जुड़ा हुआ है। यह मेनिया के समान है, लेकिन ये इतना गंभीर नहीं होता। मेनिया के मुकाबले, हाइपोमेनिया में काम करने में, पढ़ाई में या किसी सामाजिक रिश्तों में इतनी समस्या नहीं देखि जाती। हालांकि, जिन लोगों को हाइपोमेनिया होता है वो अपने मूड में बदलाव देख सकते हैं।

अवसाद यानि डिप्रेशन के एपिसोड्स में आप निम्नलिखित अनुभव कर सकते हैं :

  • गहरी उदासी

  • निराशा

  • ऊर्जा की हानि

  • उन गतिविधियों में रुचि की कमी जिसमें उन्हें आनंद आता था

  • बहुत कम या बहुत अधिक नींद की अवधि

  • आत्महत्या करने के विचार

हालांकि यह एक दुर्लभ स्थिति नहीं है, विभिन्न लक्षणों की वजह से बाइपोलर डिसऑर्डर का निदान करना कठिन हो सकता है। उन लक्षणों के बारे में पता करें जो अक्सर उच्च और निम्न अवधि के दौरान होते हैं।

बाइपोलर डिसऑर्डर के कारण - Bipolar Disorder Causes in Hindi

बाइपोलर डिसऑर्डर होने का कोई एक कारण नहीं है। रेसर्चेर्स अभी भी स्टडी कर रहे हैं कि किन कुछ कारकों की वजह से व्यक्ति इस ओर बढ़ता चला जाता है।

उदहारण के तौर पर, कभी-कभी यह केवल आनुवंशिकी का मामला हो सकता है, जिसका अर्थ है कि ये स्थिति आप में हैं और ये आगे भी चलती जा रही है। जिस तरह से आपके मस्तिष्क का विकास होता है वह भी एक भूमिका निभा सकता है, लेकिन वैज्ञानिकों को यह निश्चित रूप से पता नहीं है कि ये कैसे या क्यों होता है।

बाइपोलर डिसऑर्डर का इलाज - Bipolar Disorder Treatment in Hindi

बाइपोलर डिसऑर्डर में लंबे समय तक ट्रीटमेंट की जरूरत होती है। चूंकि बाइपोलर डिसऑर्डर काफी समय तक चलने वाला विकार है, इसलिए जब आप बेहतर महसूस कर रहे हों, तब भी उपचार जारी रखना महत्वपूर्ण है। बाइपोलर डिसऑर्डर वाले अधिकांश लोगों को नए एपिसोड को रोकने और लक्षण-मुक्त रहने के लिए दवा की आवश्यकता होती है। दवा के अलावा भी अन्य इलाज हैं। दवा अकेले ही बाइपोलर डिसऑर्डर को पूरी तरह से नियंत्रित नहीं कर सकती। बाइपोलर डिसऑर्डर के लिए सबसे प्रभावी इलाज है दवाइयों का मेल जोल, थेरेपी, जीवनशैली में बदलाव और सामाजिक सहारा।

Related Stories

No stories found.