नींबू के फायदे और नुकसान - Lemon (Nimbu) Benefits and Side Effects in Hindi
आहार

नींबू के फायदे और नुकसान - Lemon (Nimbu) Benefits and Side Effects in Hindi

Health Raftaar

नींबू यानि लेमन (Lemon) को वैज्ञानिक भाषा में साइट्रस लेमन (Citrus Lemon) कहा जाता है। नींबू एक खट्टा फल है जो सबसे ज्यादा एशिया में खासतौर पर उत्तरी भारत, नॉर्थ बर्मा और चीन में पाया जाता है। नींबू पीले रंग का होता है और छोटे से पौधे पर उगता है।

नींबू का पौधा सदाबहार होता है यानि इस पर नींबू की फसल पूरे साल उगती है। नींबू के पेड़ की पत्तियां भी फायदेमंद होती हैं और इन्हें चाय की पत्ती व मांसाहारी खाना बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। नींबू को चकोतरा और खट्टे नारंगी की प्रजाति का माना जाता है।

नींबू बहुत गुणकारी होता है और कई तरीकों से इस्तेमाल किया जाता है। नींबू में साइट्रिक एसिड, कैल्शियम, मैग्नीशियम, विटामिन सी, पेक्टिन और लाइमीन जैसे कई पदार्थ पाए जाते हैं जो शरीर को रोधक्षमता और संक्रमण से लड़ने की शक्ति प्रदान करते हैं। नींबू स्वास्थय के लिए बहुत लाभकारी होता है। नींबू में बायोफ्लैवोनौइड्स (Bio-flavonoids) नामक एंटीऑक्सीडेंट मौजूद होता है जो नींबू को इतनी खासियत देता है।

नींबू के फायदे - Benefits of nimbu in Hindi

नींबू को कई प्रकार से इस्तेमाल किया जा सकता है जैसे कि इसे सौंदर्य उत्पादों में मिलाया जा सकता है, खाने के लिए व खाने के पदार्थ में ज़ायके के लिए, बेकिंग पाउडर आदि में भी मिलाया जा सकता है। आइए जानें नींबू के कुछ फायदे-

मुहांसों से छुटकारा - Get Rid of Acne 

नींबू में साइट्रिक एसिड मौजूद होता है जो मुहांसों से लड़ने में कारगर साबित होता है। नींबू में पाए जाने वाले विटामिन सी से शरीर की त्वचा स्वच्छ व कोमल बनती है। नींबू के खार के गुणों से शरीर के जीवाणु भी मरते हैं।

डायटिंग में फायदेमंद - Reduces Weight

कोई व्यक्ति अपना वज़न कम करना चाहता है तो उसे रोज़ सुबह नींबू पानी पीना चाहिए। गुनगुने पानी में नींबू का रस और शहद मिलाकर पीने से शरीर में जमी वसा कटती है।

बदहजमी और कब्ज - Indigestion and constipation

नींबू पानी पीने से बदहजमी और कब्ज जैसी शिकायतें दूर होती हैं। अपने खाने की डिश में नींबू की दो-चार बूंदे मिला लें, इससे खाना सही से पच जाएगा। नींबू रक्त शोधक (blood purifier) की तरह काम करता है इसलिए खाने के बाद नींबू सोडा पीना अच्छा रहता है।

दंत चिकित्सा - Dental Care

दांतों में दर्द हो रहा है तो दर्द की जगह पर नींबू का रस लगाने से दर्द से निजात मिलेगा। यदि मसूढ़ों से खून निकल रहा हो तो मसूढ़ों पर नींबू के रस को लगाने से खून बहना रूक जाएगा। साथ ही नींबू मुंह की दुर्गंध से और गले के संक्रमण से भी निजात दिलाता है।

सौंदर्य बढ़ाए - Body Care

नींबू का रस शरीर की त्वचा से गंदगी दूर करता है, शरीर पर हुई टैनिंग को कम करता है, चेहरे पर झुर्रियों को कम करता है, बालों में चमक लाता है और डैंड्रफ के अलावा बाल झड़ने की समस्या से भी निजात दिलाता है।

हाई ब्लड प्रेशर - High Blood Pressure

दिल के मरीज़ों के लिए नींबू बेहद फायदेमंद होता है। इसमें मौजूदा पोटैशियम के कारण हाई ब्लड प्रेशर, चक्कर और उबकाई से राहत मिलती है।मानसिक तनाव और अवसाद से बचने के लिए भी नींबू का इस्तेमाल किया जाता है।

अन्य फायदे - Other Benefits

नींबू के सेवन से थकावट, चक्कर आना, चिंता, घबराहट और तनाव जैसी समस्याएं दूर होती हैं। इससे सूजन, फोड़े कम होते हैं और हैजा और मलेरिया जैसी बीमारियों को नींबू के रस से ठीक किया जा सकता है। मसाज लेने के पानी में नींबू की कुछ बूंदे मिलाने से लाभ मिलता है।

नींबू से सावधानी - Precaution from nimbu in Hindi

नींबू पानी में कई तरह के पोषक तत्व होते हैं जैसे कि विटामिन सी, पोटैशियम और फाइबर। डायटिंग के दौरान यह सब बेहद फायदेमंद होते हैं लेकिन इनके ज्यादा सेवन से शरीर में कई तरह के दुष्प्रभाव भी पैदा हो सकते हैं। आइए नींबू के कुछ साइड-इफेक्ट्स जानें-

अस्थमा के मरीज़ों को नींबू के ज्यादा सेवन से परहेज करना चाहिए। खट्टे फलों को अक्सर माइग्रेन की बीमारी से जोड़ कर देखा जाता है जिसमें खट्टी चीजों से एलर्जी भी उत्पन्न हो सकती है।

नींबू के ज्यादा सेवन से दांतों को नुकसान पहुंच सकता है। नींबू में भारी मात्रा में तीखापन पाया जाता है जिसके कारण दांतों की चमकीली परत फीकी पड़ सकती है और दांत भी कमज़ोर हो सकते हैं।

नींबू में मौजूदा खट्टेपन के स्तर के कारण पेट संबंधी समस्याएं भी उजागर हो सकती हैं। नींबू खाना पचाने में मदद करता है लेकिन आवश्यकता से ज्यादा नींबू के सेवन से पेट में दर्द व सीने में जलन जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं।

शरीर पर नींबू लगाने के तुरंत बाद घर से निकल जाने से सनबर्न का खतरा सबसे ज्यादा रहता है। इसलिए जब भी शरीर पर नींबू का प्रयोग करें तो शरीर के उन हिस्सों को ढक कर ही घर से बाहर निकलें।