शहद के फायदे - Health Benefits Of Honey in Hindi
आहार

शहद के फायदे - Health Benefits Of Honey in Hindi

Health Raftaar

शरीर को स्वस्थ बनाने में शहद विशेष भूमिका निभाता है और अनेक रोगों से हमारी रक्षा करता है ! शहद हल्का और शीघ्र पचने वाला तत्व है जो पेट में पहुंचते ही रक्त में मिल जाता है शहद में ग्लूकोज, माल्टोज, फ्रक्टोज, गोंद, मोम, क्लोरोफिल के अलावा विटामिन A, विटामिन B, विटामिन C पाए जाते हैं ! इसके आलावा तांबा, मैग्नीज़, सिलिका , कैल्सियम, लौह तत्व, सोडियम, फास्फोरस, गंधक, आयोडीन और एन्टीसेप्टिक तत्व भी शहद में विघमान रहते हैं !

शहद के प्रयोग और फायदे - Shehad ke prayog aur Fayde

भूख खुलना :

शहद में अदरक का रस और अडूसा का रस 1-1 चम्मच मिलाकर प्रतिदिन पीने से भूख बढ़ती है!

थकान दूर करने के लिए :

शहद और नींबू के रस का शरबत बनाकर पीने से शरीर की थकान दूर हो जाती है और शरीर को ताज़गी मिलती है!

हाथ पैर फटना:-

सर्दी के मौसम में हाथ पैर की त्वचा फट जाने पर उन्हें गर्म पानी से धोकर कटे हुए हिस्से पर शहद मलने से त्वचा नरम और मुलायम होती है और पैर फटना बंद हो जाते हैं !

स्वप्नदोष:-

दूध में शहद मिलाकर पीने से स्वप्नदोष, धातु जाना वह मर्दाना कमजोरी में बहुत लाभ होता है !

झाईं दूर करने में सहायक:-

सिरके के शहद में नमक मिलाकर चेहरे पर लगाने से चेहरे की झाईंयां दूर होती हैं !

जुखाम:-

जायफल को घिसकर शहद के साथ चाटने से पुराना जुखाम दूर होता है !

गैस दूर करने के लिए:-

शहद, अदरक और नींबू का रस 6-6 ग्राम मिलाकर दिन में 3 बार खाने से गैस की परेशानी दूर हो जाती है !

कान का बहना:-

पहले कान में शहद टपकाकर फिर पिचकारी से पानी मारकर धो डालें ! फिर पीली कौड़ी की भस्म कान में डाल दें! इससे कान बहना एकदम बंद हो जाएगा !

काली खासी:-

मक्का के दाने निकालकर उसके भुट्टे को जलाकर राख कर लें ! 2 ग्राम भस्म शहद में मिलाकर 1 सप्ताह तक सेवन करने से काली खांसी दूर हो जाती है !

ज्यादा डकार आना:-

10 ग्राम शहद में 10 बूंद नींबू का रस मिलाकर सेवन करने से अपच और अजीर्ण के कारण आने वाली डकारें बंद हो जाती हैं !

दाद:-

आधा चम्मच शहद में 5 बूंद आक का दूध मिलाकर लगाने से दाद जड़ से समाप्त हो जाता है !

मुंह आना:-

बच्चों का मुंह आने पर गेरू पीसकर घी और शहद मिलाकर चाटने से मुह आना बंद हो जाता है !

मोच आना:-

शहद, चूना और प्याज तीनों को एक साथ पीस कर गर्म कर लेप करने से सूजन व दर्द दूर हो जाता है !

आधासीसी का दर्द:-

यदि सिर के दाएं हिस्से में दर्द हो तो बांए नासिक छिद्र में और बाएं हिस्से में दर्द हो तो दाएं नासिक छिद्र में शहद की एक बूंद टपकाने से आधा सीसी का दर्द कम होता है !

शरीर में गर्मी:-

गर्मी की तेजी होने पर 25 ग्राम आंवले के रस में 10 ग्राम शहद मिलाकर दिन में 2-3  बार पीने से शरीर की गर्मी शांत हो जाती है !

शहद की पहचान :-

पका हुआ शहद सैकड़ों वर्षों तक बना रहता है यही असली और वास्तविक शहद होता है ! असली शहद पानी में डालने पर सीधे तली में उतर जाता है और पानी में नहीं घुलता ! असली शहद आंख में डालने पर जलन करता है तथा कागज या कपड़े पर निशान नहीं छोड़ता !

सावधानियां:-

शहद को कभी आग पर नहीं तपाना चाहिए और चाय, कॉफी में मिलाकर नहीं पीना चाहिए ! मांस, मछली के साथ शहद नहीं खाना चाहिए ! बुखार और प्यास में भी शहद का सेवन नहीं करना चाहिए ! शहद हमेशा ठंडे दूध में डालकर पीना चाहिए ! शहद और पानी कभी भी बराबर मात्रा में नहीं लेना चाहिए यह बहुत हानिकारक होता है ! हमेशा शुद्ध और असली शहद ही प्रयोग करना चाहिए !