लौंग के फायदे और नुकसान - Cloves (Laung) Benefits and Side Effects in Hindi
आहार

लौंग के फायदे और नुकसान - Cloves (Laung) Benefits and Side Effects in Hindi

Health Raftaar

लौंग सिर्फ गरम मसाला भर नहीं है। इसके कई फायदे हैं जो हमारी सेहत के लिए काफी फायदेमंद हैं। इसके सेवन से पाचन अच्छा रहता है। यह कैंसर से हमें बचाता है और इसके सेवन से लीवर की बीमारी, डायबिटीज और दांत-मुंह की बीमारी से छुटकारा मिलती है। लौंग इंडोनेशिया, भारत, पाकिस्तान और पूर्वी अफ्रीका में सबसे ज्यादा पाई जाती है।

मुगलई डिश से लेकर एशियाई डिश में लौंग का इस्तेमाल खाने में फ्लेवर डालने के लिए किया जाता है। Syzygium aromaticum पेड़ के फूल के बीज जब सूख जाते हैं तो इसे लौंग कहते हैं। लौंग Myrtaceae परिवार की वृक्ष है।

लौंग के पेड़ के सूखे बीज, तने और पत्ते सभी का इस्तेमाल दवाओं में किया जाता है। लौंग के तेल के भी कई औषधीय फायदे हैं। भारत और चीन में सदियों से लौंग का इस्तेमाल दवा के रुप में किया जा रहा है।

आयुर्वेद चिकित्सा में भी लौंग की कई दवाइयां दांत के दर्द, दांतों में सड़न, पायरिया, सिर दर्द, डायबिटीज, गठिया समेत कई बीमारियों के इलाज के लिए किया जा रहा है।

लौंग में कार्बोहाइड्रेट, लिपिड, फाइबर, कैल्शियम, आइरन, मैग्नेशियम, फॉस्फोरस, पोटाशियम, सोडियम, जिंक और कई विटामिन पाए जाते हैं। इसमें एंटी ऑक्सीडेंट, एंटी माइक्रोब्स, एंटी इंफ्लामेटरी और हेपाटोप्रोटेक्टिव (लीवर की रक्षा) गुण पाए जाते हैं।

लौंग के फायदे - Benefits of Cloves in Hindi

पाचन - Cloves for Digestion

लौंग में कई तरह के पाचक एंजाइम होते हैं। इसे खाने से पाचन तंत्र ठीक रहता है और एसीडिटी खत्म होती है। लौंग को भून कर उसे पाउडर की तरह बना कर शहद में मिला कर खाने से पाचन तंत्र ठीक रहता है।

एंटी बैक्टीरियल - Cloves as Anti-Bacterial

लौंग में एंटी बैक्टैरियल गुण होते हैं। यह हमें कई तरह के रोगाणुओं से बचाते हैं। लौंग से निकले रस और एंजाइम रोगाणु को मार देते हैं। कॉलरा जैसी रोगाणुजनित बिमारियों में लौंग एक कारगर दवा है।

कैंसर - Cloves for Cancer

मेडिकल जगत में लौंग के औषधीय गुण को लेकर अभी काफी शोध हो रहे हैं। खासकर इसकी anti-carcinogenic गुण के कारण। कई सारे टेस्ट से पता चला है कि फेफड़े के कैंसर में लौंग से बनी दवा काफी काम करती है।

लीवर का बचाव - Cloves for Liver

लौंग में काफी मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं जो मानव शरीर के अंगो की सुरक्षा फ्री रेडिकल के आक्रमण से करते हैं। खासकर लीवर की सुरक्षा। उपापचय के दौरान फ्री रेडिकल काफी बनते हैं और लौंग के सेवन से फ्री रेडिकल नष्ट होते हैं।

डायबिटीज - Cloves for Diabetes

लौंग के सेवन से हमारी आंतें सही ढ़ंग से काम करती हैं और शरीर में इंसुलिन बनने की प्रक्रिया तेज होती है। लौंग से निकले जूस और एंजाइम से ब्लड में शुगर लेवल भी कंट्रोल में रहता है।

हड्डियों को मजबूत बनाने में - Cloves for Bones

लौंग में Eugenol Flavones, Isoflavones और Flavonoids केमिकल कंपाउड पाए जाते हैं। यह हड्डियों की सुरक्षा करते हैं और हड्डियों में पाए जाने वाले मिनरल्स को बचा कर रखते हैं। अगर Osteoporosis की बीमारी हो तो लौंग के सेवन से हड्डियों की मजबूती बनी रहती हैं।

रोग प्रतिरोधी क्षमता मजबूत बनाने में - Cloves for Immunity

आयुर्वेद में लौंग को रोग प्रतिरोधी क्षमता मजबूत बनाने की औषधि कहा गया है। इसके सेवन करने से ब्लड में सफेद रक्त कोशिकाओं की संख्या बढ़ती है और इम्यून सिस्टम मजबूत होता है।

दर्द और सूजन को कम करने में - Cloves for Pain and Swelling

लौंग में एंटी इंफ्लामेट्री और दर्द निवारक गुण होते हैं। यही कारण है कि दांतों के किसी भी तरह के दर्द और सूजन में यह रामबाण की तरह काम करता है।

और भी हैं कई औषधीय लाभ - Other Medicinal Benefits of Cloves

  • लौंग को गर्म कर पानी में घिसकर माथे पर लगाने से सिर दर्द गायब हो जाता है।
  • लौंग पीसकर एक चम्मच शहद मिलाकर पीने से उल्टी व जी मिचलाना बंद हो जाता है।
  • इसे आग पर सेंककर मुंह में रखने से गले की सूजन व सूखे कफ का नाश होता है।
  • लौंग के तेल को मिश्री पर डालकर सेवन करने से पेटदर्द में लाभ होता है।
  • यह दमा के मरीजों को भी काफी आराम पहुंचाता है।

लौंग से सावधानी - Precaution from Cloves in Hindi

लौंग का तेल सीधे नहीं लेना चाहिए। लौंग के तेल के साथ जैतून का तेल या फिर पानी मिला कर लेना चाहिए, क्योंकि लौंग से निकाले गए तेल में Cytotoxic गुण होते हैं जो आपकी कोशिकाओं को नुकसान पहुंचा सकते हैं। इंडोनेशिया में लौंग से बने सिगरेट भी पीए जाते हैं, इसके सेवन से बचना चाहिए।