बेल के फायदे और नुकसान - Bael Benefits and Side Effects in Hindi
आहार

बेल के फायदे और नुकसान - Bael Benefits and Side Effects in Hindi

Health Raftaar

बेल फल का वानस्पतिक नाम Limonia acidissima है। बेल फल को लकड़ी सेब, हाथी एप्पल और बंदर फल जैसे नामों से भी जाना जाता है। यह हाथियों का पसंदीदा भोजन है, इसलिए इसका नाम हाथी एप्पल और क्योंकि इसका खोल हार्ड लकड़ी से बना होता है इसलिए इसे लकड़ी सेब भी कहते हैं।

बेल के पेड़ भारत के साथ ही एशिया के दक्षिणी भाग में श्रीलंका, थाईलैंड और अन्य क्षेत्रों में भी पाये जाते हैं। बेल का पेड़ ऊंचाई में 30 फीट तक बढ़ सकता है, और खाद्य फल व्यास में 5-9 सेंटीमीटर का होता है। बेल में स्वास्थ्य लाभ के लिए कैल्शियम, फॉस्फोरस, फाइबर, प्रोटीन, और लोहा सहित उनके पोषक तत्व, विटामिन, और कार्बनिक यौगिक आदि पाये जाते हैं।

बेल के फायदे - Benefits of Bael in Hindi

1. पाचन के लिए अच्छा-
यह आंत में कीड़े को नष्ट करने में मदद करता है, और पाचन विकार के लिए एक अच्छा उपाय है। ट्रंक और बेल के पेड़ की शाखाओं 'Feronia गम' नामक गोंद जैसा पदार्थ होते हैं। यह आमतौर पर डायरिया और पेचिश के इलाज के लिए प्रयोग किये जाता है।

2. रक्त क्लींज़र-
गर्म पानी और चीनी के साथ मिश्रित बेल फल का रस रक्त शुद्धि और शरीर से विषाक्त पदार्थों को हटाने का काम करता है। यह विषाक्त पदार्थों को कम करके जिगर और गुर्दे, पर तनाव कम कर देता है।

3. स्कर्वी की रोकथाम-
विटामिन सी (Ascorbic Acid) की कमी से स्कर्वी रोग होता है। बेल फल विटामिन सी से भरपूर होता है, तो यह आपको स्कर्वी रोग से बचाता है। विटामिन सी के उच्च स्तर में होने के कारण यह माइक्रोबियल और वायरल संक्रमण से रक्षा करके की लोगों की सुरक्षा, प्रतिरक्षा प्रणाली की ताकत और शक्ति बढ़ाता है।

4. मधुमेह के रोगियों के लिए फायदेमंद-
'Feronia गम', ट्रंक और बेल के पेड़ की शाखाओं में प्रचुर मात्रा में होता है। यह मधुमेह रोगियों में counteracts और खून में शर्करा का प्रवाह, स्राव, और संतुलन को मैनेज करने में मदद करता है। 

5. एनर्जी बूस्टर-
बेल फल के सौ ग्राम गूदा में 140 कैलोरी होती है। इसमें प्रोटीन भी उच्च स्तर पर होती है जो मांसपेशियों को मजबूत करके शरीर में ऊर्जा लाती है।

6. हृदय को रखता है स्वस्थ-
बेल में बीटा कैरोटीन की अच्छी मात्रा पायी जाती है। बेल में थिअमिने और राइबोफ्लेविन होते हैं, जो हृदय टॉनिक के रूप में काम करते हैं। हार्ट को बूस्ट करते हैं और स्वस्थ रखते हैं।

7. फीडिंग-
बेल का रस माताओं द्वारा सूखा अदरक पाउडर और गुड़ के साथ सेवन किया जा सकता है। यह शिशुओं के लिए और अधिक दूध का उत्पादन करने में मदद करता है। 

8. कैंसर-
कैंसर रोकने के लिए या स्तन कैंसर का इलाज करने के लिए नियमित रूप से बेल के रस का सेवन करना चाहिए।

9. त्वचा के लाल चकत्ते की रोकथाम-
बेलपत्र के रस 30ml रस के साथ जीरा मिलाकर पीना चाहिए। इससे पित्ती के साथ साथ त्वचा के लाल पीले चकत्ते और खुजली द्वारा बने चकत्ते ठीक हो जाते हैं।

अन्य लाभ-
बेल फल का पके फल के रूप में या रस-रूप में सेवन किया जा सकता है। पका हुआ बेल फल मीठा होता है और यह स्वादिष्ट पेय बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। पका हुआ फल चीनी या शहद के साथ कस्टर्ड के रूप में सेवन किया जाता है। कच्चे बेल फल का स्वाद खट्टा होता है। बेल फलों के पेड़ की पत्तियों का प्रयोग सलाद और चटनी बनाने के लिए प्रयोग किया जाता है।

बेल से सावधानी - Precaution from Bael in Hindi

किसी भी अन्य खाद्य / फल की तरह, बेल फल लेने के लिए जब कुछ सावधानी बरतने की आवश्यकता होती है। गैस्ट्रिक परेशानी वाले लोगों को सावधान रहना चाहिए क्योंकि बेल फल की अत्यधिक खपत, पेट फूलने का कारण हो सकती है।