close button
In Herbal Upayon Se Bachen Twacha Ke Cancer Melanoma Se

इन हर्बल उपायों से बचें त्वचा के कैंसर मेलानोमा से (In Herbal Upayon Se Bachen Twacha Ke Cancer Melanoma Se)

मेलानोमा (Melanoma) त्वचा का गंभीर किस्म का कैंसर (Skin Cancer) है जो कि त्वचा को मेलेनिन प्रोड्यूस करने वाले मेलानोसाइट्स (Melanocytes) में विकसित होता है। मेलेनोमा मस्सों या तिल में होना प्रारम्भ होता है हालाँकि यह त्वचा के भीतर भी हो सकता है और देखने में एकदम सामान्य लगता है।

चेहरे के तिल या मस्सों के रंगों में परिवर्तन हो, तिलों के आस-पास की त्वचा में खुजली हो या त्वचा लाल हो जाए या मस्सों से खून आये तो इसे गंभीरता से लेते हुए इसका इलाज करना चाहिए।


पहले की स्टडीज में यह बात सामने आई थी कि यह ज्यादा धुप में रहने से होता है या हेरिडिटी भी इसका कारण हो सकती है। लेकिन हालिया रिसर्च के मुताबिक़ धूप में न रहने से भी यह कैंसर हो सकता है क्योंकि धूप विटामिन डी का प्रमुख स्त्रोत है और त्वचा में विटामिन डी की कमी से भी मेलेनोमा होना संभव है।

धूप से बचने के लिए ज्यादा सनस्क्रीन का इस्तेमाल भी मेलेनोमा को बढ़ावा दे सकता है। सर्जरी या अन्य ट्रीटमेंट से इसका इलाज संभव है लेकिन कुछ हर्बल उपाय भी आपकी हेल्प कर सकते हैं। आइये हम आपको इसके हर्बल इलाज बताते हैं जिन्हें अपनाकर आप मेलानोमा से त्वचा को बचा सकते हैं।


मेलानोमा का हर्बल इलाज (Herbal Home Remedies for Melanoma Skin Cancer in Hindi)

रसभरी (Raspberry for Melanoma)

यह एक प्राकर्तिक फल है जो कि मेलानोमा बनाने वाले इफेक्टिव स्किन सेल्स को मार देता है। रास्पबेरी में अस्कोब्र्यल और अल्लान्टोनिन दो प्रमुख कॉम्पोनेन्ट हैं जो एक्टिव होते हैं।

यह ना केवल मेलानोमा से त्वचा को बचाते हैं बल्कि त्वचा ऊतकों की मरम्मत भी करते हैं। रास्पबेरी को त्वचा पर डायरेक्ट लगाया जा सकता है और खाया भी जा सकता है, लेकिन इसके बीज चबाना ज्यादा फायदेमंद होता है। अपनी सुविधा के अनुसार उपयोग कर सकते हैं।

2- चाय के पौधे का तेल (Tee Tree Oil for Melanoma)

चाय के पौधे का तेल या टी ट्री आयल भी मेलानोमा में बेहद फायदेमंद है। इसमें मौजूद तेरपिनेन एक एक्टिव कंपाउंड है। इसमें एंटीबेक्टेरिअल, एंटीसेप्टिक, एंटी माइक्रोबियल और एंटी फंगल गुण पाये जाते हैं जो कि त्वचा कि हर समस्या में लाभकारी है। इस तेल को संक्रमित त्वचा पर दिन में दो बार लगाएं। फायदा जरूरत होगा।

3- रोजमैरी (Rosemary for Melanoma)

रोजमैरी (एक प्रकार की सुगंधित मेंहदी) को सालों से मेलेनोमा के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है। रोजमैरी में एंटीऑक्सीडेंट और एंटी कार्सिनोजेनिक प्रॉपर्टीज (Anti Oxidant and Anti Carcinogenic Properties) होती हैं जो कि त्वचा में स्किन कैंसर सेल्स (Skin Cancer Cells) को बनने से रोकती हैं और मेलानोमा को प्राकर्तिक रूप से ठीक करती है। आप भी इसे इस्तेमाल कर सकती हैं।

4. हल्दी (Turmeric for Melanoma)

हल्दी में मौजूद करक्यूमिन इसका मुख्य हिस्सा होता है जो कि एंटी कैंसर और एंटी इंफ्लेमेटरी (Anti Cancer and Anti Inflammatory) गुणों से भरपूर है। हल्दी हमारे रोज के खाने का हिस्सा है जो कि मेलेनोमा सेल्स की ग्रोथ को रोकती है और त्वचा की रक्षा करती है। हल्दी का इस्तेमाल जरूर किया करें।

5. बैंगन (Brinjal for Melanoma)

बैंगन से बनी क्रीम या अर्क भी मेलानोमा के उपचार में बेहद फायदेमंद है। वनस्पति विज्ञान की दृष्टि से बैंगन सोलनसए फैमिली से आता है। टमाटर, आलू और बेल पेप्पर भी इसी फैमिली का हिस्सा हैं जिनके भी अपने अपने अलग लाभ हैं।

6- गुल्फास्थि (Astragalus Alpinus for Melanoma)

गुलाफस्थि यानी अस्ट्रागालुस मेलानोमा के इलाज के लिए प्राकर्तिक और सुरक्षित उपाय है। अस्ट्रागालुस के रस में एंटी इंफ्लामंट्री और एंटी एक्सीडेंट और एंटी ट्यूमर गुण पाये जाते हैं। यह कैंसर सेल्स को मारने का एनके यानी नेचुरल किलर है। यह फायदेमंद साबित हो सकता है।

सावधानी (Precautions for Melanoma)

यदि मेलानोमा से ग्रसित हैं या शरीर पर मेलानोमा के लक्षण दिखाई दे रहे हो तो इंफ्लामेंशन बढ़ाने वाले भोजन या खाद्य पदार्थ से दूर रहना चाहिए। जिसमें चीनी, फ़ास्ट फ़ूड और हाई ओमेगा 6 रेश्यो वाले खाद्य पदार्थ शामिल हैं। इसका ध्यान रखें।

Skin cancer, स्किन कैंसर, skin, त्वचा, Twacha, Home Remedies, Melanoma Skin Cancer, मेलानोमा, हर्बल उपचार

राशिफल

धर्म

शब्द रसोई से