close button
Pros And Cons Of Vitamin And Minerals

विटामिन और मिनरल के फायदे तथा नुकसान (Pros And Cons Of Vitamin And Minerals)

विटामिन और मिनरल ऐसे पोषक तत्व हैं, जो शरीर को सुचारू रूप से कार्य करने के लिए अन्य पोषक तत्वों के साथ जरूरी होते हैं। अधिकतर विभिन्न तरह के भोजन और संतुलित भोजन करने पर विटामिन और मिनरल की पूर्ति हो जाती है।

विटामिन दो प्रकार के होते हैं, फैट सॉल्यूबल विटामिन (Fat Soluble Vitamin) और वाटर सॉल्यूबल विटामिन (Water Soluble Vitamin)। फैट सॉल्यूबल विटामिन ज्यादातर वसा में पाए जाते हैं। विटामिन ए, विटामिन डी, विटामिन ई तथा विटामिन के, फैट सॉल्यूबल विटामिन हैं। वाटर सॉल्यूबल विटामिन शरीर में जमा नहीं रहते इसलिए इन विटामिन को जल्दी जल्दी लेते रहना आवश्यक होता है। विटामिन सी, बी और फॉलिक एसिड वाटर सॉल्यूबल विटामिन हैं।

मिनरल तीन कारणों से बेहद महत्वपूर्ण होते हैं। शारीरिक ढांचे और दांतों की मजबूती के लिए, शरीर में मौजूद फ्लड और बाहरी सेल्स को नियंत्रित करने के लिए तथा व्यक्ति द्वारा खाए जाने वाले भोजन को ऊर्जा में परिवर्तित करने के लिए। मीट, दालें, मछली, दूध तथा सूखे मेवे आदि इनके मुख्य स्रोत हैं।

 

विटामिन और मिनरल के लाभ (Benefits of Vitamin and Minerals)

मेटाबॉलिज्म (Metabolism):- मेटाबॉलिज्म कई तरह की प्रक्रियाओं के जरिए भोजन को स्टोर करके उसके पोषक तत्वों को ऊर्जा के रूप में जलाता है। ऐसे में विटामिन और मिनरल पाचन और मेटाबॉलिज्म में बड़ा रोल अदा करते हैं। सभी बी विटामिन जैसे कि विटामिन बी 2 या राइबोफ्लोविन, विटामिन बी 6 और विटामिन बी 12, कार्बोहाइड्रेट प्रोटीन और वसा के मेटाबॉलिज्म के लिए जरूरी होते हैं। मैग्नीशियम भी ऊर्जा के लिए महत्वपूर्ण है।

हृदय को रखता है स्वस्थ (Keeps heart healthy):- रोजाना के भोजन से मिलने वाले विटामिन और मिनरल हृदय के स्वास्थ्य के लिए बेहद जरूरी होते हैं। विटामिन ए, सी और ई के साथ ही बीटा केरोटीन में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो हृदय संबंधी बीमारियों से बचाते हैं। विटामिन बी 3 या नियासिन (niacin) कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम कर देता है।

स्वस्थ हड्डियों के लिए जरूरी (Necessary for healthy bones):- विटामिन और मिनरल हड्डियों के स्वास्थ्य और हड्डियों की सुरक्षा के लिए भी जरूरी होते हैं। विटामिन और मिनरल ऑस्टोपोरोसिस जैसी बीमारी से बचाते हैं। विटामिन डी हड्डियों के लिए बेहद जरूरी है क्योंकि विटामिन डी के कारण ही हड्डियां कैल्शियम ग्रहण कर पाती हैं। विटामिन के (Vitamin K) भी हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए जरूरी है, यह कैल्शियम और विटामिन डी को सपोर्ट करने का कार्य करता है।

 

विटामिन और मिनरल के नुकसान (Disadvantage of Vitamin and Minerals Suppliments)

विटामिन और मिनरल के लाभ के साथ ही कुछ नुकसान भी हैं। विटामिन और मिनरल सप्लीमेंट (Vitamin and minerals Suppliments) लेने से पहले चिकित्सक से परामर्श लेना बेहद जरूरी है। विटामिन और मिनरल के कुछ तत्व ऐसे हैं जो यदि लंबे समय तक शरीर में रहें तो शरीर के कई हिस्सों को नुकसान पहुंचा सकते हैं। विटामिन सी की 100 मिलीग्राम से ज्यादा मात्रा लेने पर पेट दर्द, डायरिया तथा अन्य पाचन संबंधी परेशानियां हो सकती हैं। वहीं फॉस्फोरस से ऊतक और शरीर के कई अंगों को नुकसान होने की संभावना रहती है जबकि जिंक से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता (immunity) पर असर पड़ता है। रोजाना 10 मिलीग्राम से ज्यादा विटामिन बी की मात्रा भी इतना नुकसान देती है कि व्यक्ति को लकवा (paralise) भी हो सकता है वहीं मैगनीज से बड़ी उम्र (old age) में मांसपेशियां प्रभावित हो जाती हैं।

Fitness, Excercise, Fayade,, Nuksan, Vitamin and Minerals, Benefit, Loss, विटामिन, मिनरल, फायदे नुकसान, Health Tips, हेल्थ टिप्स, Hindi

राशिफल

धर्म

शब्द रसोई से