close button

प्रोटीन के कार्य (Functions Of Proteins)

Functions of Proteins

  • शरीर के ऊतकों की मरम्मत और उनकी रक्षा करना। 
  • प्रसरणीय दाब  कायम रखना। 
  • स्त्री को द्रुग्धसवान काल में दुग्ध निर्माण के लिए प्रोटीन की आवश्यकता होती है। 
  • प्रोटीन शक्ति प्रदान करती है। 
  • गर्भवस्था में भूणिया विकास। 
  • प्रोटीन के पेशियों, शरीर के अंगो, अंतः स्त्रावी अथवा नलिकाहीन ग्रंथियों अस्थि आधात्री, दाँतो, त्वचा, बालो तथा नाखुनो आदि की वृद्धि एव विकास के लिए आवश्यक होने के कारण इनसे शिशुओ और बहुत छोटे बच्चे में शरीर का निर्माण होता है। 
  • प्रोटीन का शरीर की रोगक्षम यांत्रिकी से संबंध होता है।

कुछ पदार्थो का संशलेषण जैसे:

  • हार्मोन जैसे इन्सुलिन तथा थाइरॉक्सिन 
  • पजाज्मा प्रोटीन (Plasma proteins) 
  • अन्टीबॉडिया  (Antibodies)
  • हीमोग्लोबिन (Haemoglobin)
  • एन्ज़ाइम जैसे ट्रिप्सिन (Trypsin) एव पेप्सिन (Pepsin)
  • स्कन्दक कारक (Coagulation factors)

प्रोटीन के स्त्रोत (Sources of Proteins)

प्रोटीन के जंतु स्त्रोत (Animal Sources of Proteins)

  • जंतु उदगम की प्रोटीन दूध, पनीर, अंडो, मांस एव मछली में पाई जाती है।
  • जंतु प्रोटीनों में सभी आवश्यक एमिनो अम्ल उपयुक्त्त मात्रा में होते है अतः इन्हे प्रथम श्रेणी का प्रोटीन भी कहा जाता है।

प्रोटीन के वनस्पति स्त्रोत (Vegetable Sources of Proteins):

  • वनस्पति प्रोटीन अनाओ में, दालों, तिलहन, काष्ठफलों, फलो तथा सब्जियों में पाई जाती है।
  • वनस्पति प्रोटीनों में एक या दो अमिनो अम्लों की कमी होती है अतः वनस्पति प्रोटीनों को द्वितीय श्रेणी का प्रोटीन कहा जाता है।

कुछ खाध पदार्थ में प्रोटीन की मात्रा: (ग्राम/प्रति 100 ग्राम)

  • जंतु आहार (Animal Foods)
  • दूध (गाय का) - 3.5
  • दूध (मानव) - 1.2
  • पनीर - 18.3
  • अंडा (मुर्गी का) - 13.3
  • मछली - 21.5
  • माँस - 18.5

Diet and Nutrition, पोषण,आहार, Proteins Functions, Proteins Sources, Rich Food, प्रोटीन के कार्य, Health Tips, हेल्थ टिप्स, Hindi

राशिफल

धर्म

शब्द रसोई से