close button

जूँ (Lice)

जूं (Head Lice) तिल के आकार की एक छोटी परजीवी है जो मनुष्य के शरीर में पैदा हो जाती हैं। सामान्यत: यह बालों में पाये जाते हैं। ये बड़ी तेजी से चल सकती हैं। इस कारण बालों के बीच इन्हें खोजना कठिन हो जाता है। ये सभी उम्र तथा प्रजातियों के लोगों को संक्रमित करती हैं। 

 

जूं और लीख क्या है (About Head Lice in Hindi)

जूओं के अंडे ‘लीख’ कहलाते हैं। ये पीलापन युक्त सफेद अथवा डैंड्रफ (Dandruff) जैसे लगते हैं। जुएं बालों की डंठल पर अपने अंडों को पानी से अप्रभावित रहने वाले ‘गोंद’ से चिपका देती हैं। इन अंडों को आप गर्दन के पीछे तथा कानों के पीछे देख सकते हैं।

ये अंडे धोकर अथवा ब्रश द्वारा साफ नहीं किए जा सकते। इन्हें एक-एक करके चुनकर उठाना पड़ता है। 

जूं को चिलुआ जैसे दूसरे नामों से भी बुलाते है। जूं सिर के बालों में पनपता है और चिलुआ शरीर मे पहने गये कपडों में पसीने वाले स्थानों में पैदा हो जाते हैं। दोनो का भोजन शरीर का खून होता है।

 

जूं तीन प्रकार की होती है (Types of Lices in Hindi):-

Pediculosis Humanus Capitis- इसका जीवनकाल करीब 40 दिनों का होता है और अपने जीवन काल में ये 400 के आस पास अंडे देती है, अर्थात प्रतिदिन 7-10 ये अंडे जिन्हें हम लीख के नाम से जानते है। ये लीख बाल से चिपक जाती है और 8 दिन में पककर पूरी जूँ बन जाती है।

Pediculosis Humanus- यह शरीर पर पाई जाने वाली जूँ है। इसका अंडा मानव शरीर पर न रहकर कपङे के रेशों के साथ चिपका रहता है। ऊपर से देखने पर यह बालों की जङों में घुसी हुई दिखती है। यह भी जबरदस्त खुजली का कारण बनती है। चूंकि यह कपड़ों से जुड़ी रहती है इसलिये जो लोग एक दूसरे के कपङे पहन लेते हैं उनमें ये ज्यादा होती है।

Pthiris Pubis- मुख्यतया पेडू के नीचे वाले हिस्से (Pubic Area) में ये होती है। इसके अतिरिक्त ये, कांख, आंख की भौहों, पलकों आदि को भी प्रभावित कर सकती है। सिर को साफ़ न रखना, नियमित तौर पर सिर को नही धोना जूं होने के कारण होते हैं।

 

Lice, जूँ, Hindi

सम्बंधित रोग

बाल से जुड़े अन्य रोग

बाल केयर

Hair Care

राशिफल

धर्म

शब्द रसोई से